Home » अभिव्यक्ति » आख़िर क्यों सेना का रुख़ उधर है मेरा गांव-घर, जंगल-पहाड़ जिधर है :जसिंता केरकेट्टा
अभिव्यक्ति

आख़िर क्यों सेना का रुख़ उधर है मेरा गांव-घर, जंगल-पहाड़ जिधर है :जसिंता केरकेट्टा

Read Time2Seconds

सेना का रुख़ किधर है
…………………………
युद्ध का दौर खत्म हो गया
अब सीमा की सेना का रुख़ उधर है
मेरा स्कूल-कॉलेज, गांव-घर, जंगल-पहाड़ जिधर है

कौन साध रहा है अब
चिड़ियों की आंख पर निशाना
इस समय ख़तरनाक है सवाल करना
और जो हो रहा है उस पर बुरा मान जाना
क्योंकि संगीनों का पहला काम है
सवाल करती जीभ पर निशाना लगाना

खत्म हो रही है उनकी
बातें करने और सुनने की परंपरा
अब सेना की दक्षता का मतलब है
गांव और जंगल पर गोलियां चलाना
और सवाल पूछते विद्यार्थियों पर लाठियां बरसाना

यह दूसरे तरीके का युद्ध है
जहां संभव है
गांव में बहुतों के भूखे रह जाने का
किसानों के आत्महत्या कर लेने का
और शहर में आधे लोगों का
बहुत खाते हुए , तोंद बढ़ाते हुए
अपनी देह का भार संभालने में असमर्थ
एक दिन नीचे गिर जाने का
और अपनी ही देह तले दबकर मर जाने का

किसी युद्ध में बम के फटने से
यह शहर धुंआ-धुंआ नहीं है
यह तो विकास करते हुए
मंगल ग्रह हो जाने की कहानी है
इस विकास में न बच रहे जंगल -पहाड़
न मिल रही सांस लेने को साफ़ हवा
और लोग ढूंढ रहे कि कहां साफ़ पानी है

कोई युद्ध न हो तब भी सेना तो रहेगी
आख़िर वह क्या करेगी
वह कैंपों के लिए जंगल खाली कराएगी
जानवरों की सुरक्षा के लिए
गांव को खदेड़ कर शहर ले जाएगी
और शहर में सवाल पूछते
गांव के बच्चों पर गोली चलाएगी

आख़िर क्यों सीमा की सेना का रुख़ उधर है
मेरा स्कूल-कॉलेज, गांव-घर, जंगल-पहाड़ जिधर है

( छावनियों के खिलाफ़ छत्तीसगढ़, दंतेवाड़ा में लड़ते लोगों को समर्पित)

© जसिंता केरकेट्टा
नवम्बर 2019

2 0
0 %
Happy
100 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise