बस्तर

सरकार की महत्वपूर्ण जाँच में सारे अफसर पहुँचे लेकिन पंचायत सचिव गायब

  • एनएमडीसी और एनसीएल ने भी वन विभाग से जांच में समय मांगा
  • मनीष कुंजाम ने पंचायत सचिव के न पहुँचने पर कांग्रेस सरकार को कटघरे में खड़ा किया

पंकज सिंह भदौरिया @ हिरोली अडानी प्रा0लि0 को किरन्दुल एनएमडीसी की निपेक्ष १३ खदान कथित फर्जी ग्रामसभा २०१४ में आयोजित कर फर्जी तरीके से दिये जाने का हाल में ही दंतेवाड़ा जिले के कुआकोंडा और कटेकल्याण के साथ ३४ पंचायतो के हजारों ग्रामीणों ने हफ्ते भर जमकर आंदोलन कर जबरदस्त विरोध दर्ज किया था। इसी पर सरकार ने आंदोलनकारियों को १५ दिन में फर्जीग्राम सभा की जांच अवैध पेड़ो कि कटाई और १३ नम्बर खनन क्षेत्र में सभी काम पर जांच तक रोक लगा दी थी।

सोमवार को प्रशासन की जांच टीम बैरंग लौट गई। प्रशासनिक अमला हिरोली गाँव से जाँच की खानापूर्ति भी नहीं कर पाया और उसे वापस लौटना पड़ा। पंचायत सचिव के बैठक में नहीं आने से पंचायत संघर्ष समिति और आदिवासी नेताओं ने जांच की पारदर्शिता पर सवाल खड़े कर दिये हैं। जिला प्रशासन द्वारा हिरोली पंचायत सचिव बसंत नायक के नाम का २२ जून को नोटिस जारी किया था। लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार का हिरोली ग्राम पंचायत का सिपाहसालार पंचायत सचिव बसंत नायक २४ जून की जांच में शामिल नहीं हुआ। इधर जांच अधिकारी एसडीएम नूतन कंवर आगे की जांच प्रशासनिक अधिकारियों के दिशा निर्देश पर बढ़ाने की बात कर रहे है।

जिस दिन कथित फर्जीग्राम सभा की जांच हो रही थी उसी दिन वन विभाग १३ नम्बर खदान क्षेत्र में काटे गये वनों में एनएमडीसी सीएमडी, एनसीएल के बयान लिखित दर्ज किया गया। वन परिक्षेत्र बचेली में वन विभाग अवैध कटाई प्रकरण में एनएमडीसी की तरफ से अभिलाष शर्मा और एनसीएल के प्रतिनिधी के साथ ठेकेदार बीके लाला भी पहुँचे हुये थे। जहाँ प्रतिनिधियों मुख्य कार्यालय हैदराबाद होने की वजह से साक्ष्य जुटाने के लिये और कम्प्लीट दस्तावेज के और अधिक समय की मांग की. विधित हो कि 680 पेड़ अवैध कटाई के लिए पीयूआर फारेस्ट पहले ही काट चुका है। और रेंजर रतिराम पटेल ने जानकारी दी है कि लगातार वन विभाग गणना करने के लिए 13 नम्बर खदान की तरफ जा रहा है। अधिक साक्ष्य हेतु अधिक समय मांगने की वजह से पेड़ो कटाई को लेकर सम्पूर्ण बयान दर्ज नही हो पाया।

सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने जानकारी दी है कि दन्तेवाड़ा में पंचायत समिति के सरपंचों और समाजिक लोगो के साथ बैठक कर आगे की रणनीति तैयार कर १३ नम्बर खदान नन्दराज पहाड़ की आस्था को बचाने के लिए आंदोलन की दिशा तय की जायेगी। वहीं मनीष कुंजाम ने पंचायत सचिव के हिरोली न आने पर सरकार को कटघरे में खड़ा किया है ।

To Top
Open chat