छत्तीसगढ़

क्वारंटीन सेंटर गए भाजपा जिलाध्यक्ष समेत 12 पर जुर्म दर्ज, 14 दिन का होम क्वारंटीन जारी

(फ़ोटो: डेली छत्तीसगढ़)

महासमुंद: क्वॉरंटीन सेंटर में अनाधिकृत रूप से प्रवेश करने के मामले में महासमुन्द जिला पुलिस ने भाजपा जिलाध्यक्ष, पूर्व विधायकों सहित 12 भाजपा नेताओं पर मामला दर्ज किया है। उन सभी को रात में ही कलेक्टर और स्वास्थ्य विभाग के आदेश पर होम क्वॉरंटीन किया गया है।

ज्ञात हो कि कल शाम जिला भाजपा अध्यक्ष रूपकुमारी चौधरी, दो पूर्व विधायक डॉ. विमल चोपड़ा, रामलाल चौहान, ऐतराम साहू सहित 12 जनप्रतिनिधि कलेंडा सेंटर में अनाधिकृत प्रवेश किए थे। सभी को होम क्वॉरंटीन होने का आदेश स्वास्थ्य विभाग ने दिया है। साथ ही सरायपाली के ग्राम कलेंडा के कोटवार की रिपोर्ट पर थानें में भी मामला दर्ज कर लिया गया है।

डेली छत्तीसगढ़ ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि ग्राम कलेंडा के कोटवार महतलाल दीप ने जिले के सिंघोड़ा थाना पुलिस को जानकारी दी है कि-ग्राम कलेंडा स्थित शासकीय उच्च्तर माध्यमिक विद्यालय को शासन द्वारा क्वॉरंटीन सेंटर बनाया गया है। जिसमें बाहर से आये हुए 29 लोगों को रखा गया है। कल पांच जून को वे एवं निराकार यादव पंच के साथ क्वॉरंटीन सेंटर के बाहर ड्यूटी कर रहे थे। इसी दौरान कल शाम को पूर्व विधायक डॉ. विमल चोपड़ा, भाजपा जिलाध्यक्ष रूपकुमारी चैधरी, रामलाल चैहान, त्रिलोचन पटेल, धनेश नायक, राजेन्द्र उबोवेजा, कामता पटेल, संतराम साहू, विक्की गुरूदत्ता, संजय डडसेना, मोहन कनौजे एवं आनंद बरिहा क्वॉरंटीन सेंटर पहुंचे और गेट को खोलने कहा। मैंने एवं निराकार यादव ने उन्हें अन्दर जाने से मना किया। तभी उन्होंने हमें नहीं पहचानते क्या कहते हुए जबरदस्ती गेट को खोलकर क्वॉरंटीन सेंटर के अन्दर घुसकर क्वॉरंटीन सेंटर में रखे लोगों से बातचीत करने लगे। उक्त सभी व्यक्तियों के द्वारा शासन द्वारा दिये गये निर्देशों का उल्लंघन कर धारा 144 लागू होना जानते हुए भी क्वॉरंटीन सेंटर में अनाधिकृत रूप से प्रवेश किया गया।

कोटवार की शिकायत के बाद उपरोक्त सभी जनप्रतिनिधयों के खिलाफ सिंघोड़ा पुलिस ने धारा 188, 34 का मामला दर्ज किया है।

गौरतलब है कि इन जनप्रतिनिधियों के सेंटर के अंदर प्रवेश करते ही सरायपाली एसडीएम कुणाल दुदावत खुद ही सेंटर पहुंचे और कलेक्टर कार्तिकेया गोयल को इसकी जानकारी दी। श्री गोयल तत्काल महासमुंद से कलेंडा रवाना हुए और डॉक्टरों की टीम को भी साथ चलने कहा। कलेक्टर के कलेंडा सेंडर पहुंचते तक एसडीएम दुदावत सेंटर में डटे रहे। वहां पहुंची डाक्टरों की टीम ने भी स्वास्थ्य परीक्षण के बाद सभी प्रतिनिधियों को 14 दिनों के लिए होम क्वॉरंटीन कर करने के आदेश दिए। मालूम हो कि कलेक्टर के निर्देश पर क्वॉरंटीन सेंटरों में बिना अनुमति प्रवेश करने वाले और सेंटर के नियमों का पालन नहीं करने वाले सात लोगों के खिलाफ  कार्रवाई पहले ही शुरू हो चुकी है।

एसडीएम कुणाल दुदावत ने बताया कि जिन लोगों ने क्वॉरंटीन सेंटर के भीतर प्रवेश किया है उनकी खुद की सेहत के लिए और बाकी तमाम लोगों की सेहत के लिए स्वास्थ्य अमले को बुलाकर सभी का रैपिड टेस्ट कराया गया है। कलेंडा क्वॉरंटीन सेंटर में त्रिपुरा,पुणे और यूपी से लौटे मजदूर क्वॉरंटीन किए गए हैं। चूंकि तोषगांव क्वॉरंटीन सेंटर में त्रिपुरा से आए एक मजदूर के पॉजिटिव आने की सूचना भी मिली है। लिहाजा स्वास्थ्य अमले द्वारा सबकी जांच के बाद क्वॉरंटीन सेंटर के भीतर प्रवेश करने वाले 12 लोगों को 14 दिनों तक होम क्वॉरंटीन रहने की हिदायत देकर छोड़ दिया गया है।

Most Popular

To Top
Open chat