बस्तर

बीजापुर में CEO ने 08 पत्रकारों से मोबाइल कैमरे छीने, दी जान से मारने की धमकी

फ़ाइल फोटो : मुकेश चंद्राकर (प्रेस क्लब बीजापुर के पत्रकार मुकेश चंद्राकर के साथ )
  • बीजापुर के पत्रकार मुकेश चंद्राकर ने तामेश्वर सिन्हा को फोन के माध्यम से जो जानकारी दी वह आप साउंडक्लाउड में सुन सकते है…
  • 28 करोड़ का भ्रष्टाचार उजागर करने पर सीईओ जिला पंचायत की प्रतिक्रिया
  • 0सीईओ के बुलावे पर 8 पत्रकारों का दल और कैमरा रिकार्ड मोड पर ले कर गये थे पत्रकार मुकेश चंद्राकर
  • मीटिंग हाल में 70-80 अधीक्षकों की मीटिंग चल रही थी वहाँ बैठाकर किया जलील
  • कलेक्टर ने कहा हम अभी पत्रकारों और सीईओ के साथ बैठक कर रहे हैं थोड़ी देर में आपको बताएँगे
  • सीईओ से उनका पक्ष जानने दूरभाष पर संपर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उनसे बात नहीं हो पाई
  • छत्तीसगढ़ पत्रकार सुरक्षा कानून संयुक्त संघर्ष समिति ने की सीईओ जिला पंचायत को तत्काल गिरफ्तार कर जेल भेजने की माँग

खबरी चिड़िया @ रायपुर बीजापुर के जिला पंचायत सीईओ राहुल वेंकट ने बीजापुर के पत्रकारों को केबिन में बुलाकर जान से मारने की धमकी दी है। उनके कैमरे और मोबाइल फोन उनके हाथों छीन लिया है। मामला ओडीएफ में गड़बड़ी के बारे में खबर दिखाने का था। आज सीईओ जिला पंचायत ने 08 पत्रकारों को कार्यालय बुलाया। पत्रकारों को सीईओ ने गंदी और भद्दी गालियां देकर केबिन के अंदर ही पीटने की धमकी दी। पीड़ित पत्रकारों में से न्यूज़ 18 के सवांददाता मुकेश चंद्रकार और आईएनएच सवांददाता युकेश चंद्राकर का कैमरा तथा मोबाइल छीन लिया। इतना ही नहीं अन्य पत्रकारों ईश्वर, मुख्तार खान, लोकेश झाड़ी, पंकज दाऊद, गुप्तेश्वर जोशी को देख लेने और कार्यालय के कर्मचारियों से पीटवाने की धमकी दी है।

https://soundcloud.com/user705561765/mukeshchandrakar20190624124649

पता चला है कि एक खबर मुकेश चंद्राकर और उनके साथी पत्रकारों ने अखबारों, इलेक्ट्रॉनिक वेबसाइटों और मीडिया चैनलों में प्रकाशित प्रसारित की थी। जिस खबर के प्रकाशित और प्रचारित होने से सीईओ गुस्से में थे। यह खबर करीब 28 करोड़ के भ्रष्टाचार से जुड़ी हुई थी। बस्तर के वरिष्ठ पत्रकारों ने इस घटना की कड़ी निंदा की हैं। और अपराधी सीईओ जिला पंचायत को तत्काल गिरफ्तार कर जेल भेजने की माँग की है| पत्रकार तामेश्वर सिन्हा ने कहा है कि हमारे साथियों के साथ हुई दुर्व्यवहार को हम कदापि बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं। सरकार इस अफसर को गिरफ्तार कर जेल भेजे।

To Top
Open chat