छत्तीसगढ़

कोरोना वॉरियर 8 माह बाद जन्मदिन पर लौटी घर, लोगों ने पुष्पवर्षा से किया स्वागत

गरियाबंद: मंगलवार को 8 माह बाद अपने जन्मदिन पर नगर की कोरोना वॉरियर युवती रायपुर से अपने घर गरियाबंद पहुंची। जिस पर मोहल्लेवासियों ने पुष्पवर्षा कर उसका स्वागत किया।

छत्तीसगढ़ की रिपोर्ट के मुताबिक नगर की एक कोरोना वॉरियर्स युवती लॉकडाउन से लगातार आठ माह तक रायपुर के एक प्राइवेट अस्पताल में कोरोना मरीजों की सेवा कर मंगलवार को 8 माह बाद वह वापस अपने घर गरियाबंद पहुंची है। इस अवसर पर मोहल्लेवालों और नगरवासियों ने युवती का पुष्पवर्षा और तालियों के साथ स्वागत किया गया। इस नेक सेवा कार्य के लिए उसे बधाई दी और उसके उज्जवल भविष्य की कामना की।  

ज्ञात हो कि नगर के वार्ड 15 की 22 वर्षीय ओमिता सिन्हा विगत दो वर्ष से रायपुर के प्राइवेट हॉस्पिटल एनएचएमएमआई में नर्सिंग स्टाफ है। उसे कोविड-19 मरीजों की सेवा के लिए एमआईसीयू स्टाफ की महत्वपूर्ण भूमिका दी गई। आठ माह से वह अपने घर परिवार से दूर रायपुर में ही रहकर कोरोना मरीजों की सेवा की। इस दौरान उसने एक भी छुट्टी नहीं ली।

ओमिता सिन्हा ने बताया कि जब कोरोना संक्रमण के चलते संकटमय स्थिति उत्पन्न हुई तो अस्पताल प्रबंधन ने इस कठिन दौर में सेवा कार्य के लिए उसे चुना। परिवार वालों से चर्चा की तो उन्होंने भी इस कार्य के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया। शुरू में कोरोना माहौल को देखकर थोड़ा डर जरूर लगा परंतु प्रबंधन और परिजनों के उत्साहित कर साहस बढ़ाया जिससे इस कार्य को सेवाभाव से करने का निश्चय किया। इस दौरान एक बार वह खुद भी संक्रमित हो गई। 14 दिन तक क्वारंटीन रही, स्वास्थ्य लाभ लिया और फिर स्वस्थ होकर फिर से कोरोना ड्यूटी में जुट गई। 

ओमिता ने बताया कि अस्पताल में ड्यूटी के दौरान हर सात दिन में कोरोना टेस्ट भी होता था और सात दिन क्वारंटीन भी रहना पड़ता था।
ओमिता का नगर पालिका अध्यक्ष गफ्फू मेमन सहित नगरवासियों ने प्रशंसा की। नपा अध्यक्ष मेमन ने कहा कि ओमिता सिन्हा ने संकटकाल में मिशाल कायम करते हुए पूरे गरियाबंद का नाम रोशन किया है। ओमिता हम सब के लिए प्रेरणादायी है। इस नेक कार्य के लिए मैं पूरे गरियाबंद की ओर से उसे बधाई देते हुए उसके स्वस्थ और उज्जवल भविष्य की कामना करता हूं। 

इस अवसर पर नगर पालिका के उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सोनटेके सहित सभी पार्षदो, वरिष्ठ जन सत्यप्रकाश मानिकपुरी, प्रकाश रोहरा, हरीश भाई ठक्कर, लीलाराम सिन्हा, विनय दासवानी, अमित ठक्कर, अजय रोहरा, मनोज खरे, कमलेश पांडेय, दीपक सरवैया, सहित व्यापारी संघ, सिंधी समाज, सिन्हा समाज सहित विभिन्न समाज के लोगों ने उनको बधाई दी है।   

बड़े भाई विजय सिन्हा व पंकज सिन्हा ने बताया कि कोरोना संकट के कठिन समय में परिवार से दूर अस्पताल में मरीजों की सेवा में जुटी थी। यह समय बेहद कठिन था, पूरा परिवार उसे लेकर चिंतित था। हमें खुशी है कि इस संकटकाल में हमारी बहन ने बेहतर सेवाकार्य कर परिवार और गरियाबंद को गौरवाविंत किया है।

Most Popular

To Top
Open chat