बस्तर

बीजापुर के नैमेड़ में आईईडी ब्लास्ट नौ ग्रामीण घायल

पवन दुर्गम @ बीजापुर होली से एक दिन पहले नक्सलियों के खून की होली खेलने की नापाक मंसूबो पर पानी फिर गया है। सुरक्षाबल और पुलिस को टारगेट करने वाले नक्सलियों ने कल एक बोलेरो जो पेद्दाकोडेपाल से दंतेवाड़ा जा रही थी उसे आईईडी से उड़ा दिया था। ब्लास्ट इतना शक्तिशाली था कि ग्रामीणों से भरी बोलेरो ब्लास्ट स्थल से 10 मीटर दूर जाकर गिरी। घायल धनीराम उरसा ने घायल अवस्था मे भी बोलेरो में फंसे ग्रामीणों को बाहर निकाला। इस ब्लास्ट में धनीराम को भी सिर और दाएं हाथ मे गंभीर चोटें आई थी। ब्लास्ट के कुछ देर बाद 7:30 बजे सभी को जिला हॉस्पिटल बीजापुर लाया गया था जहां घायलों को प्राथमिक उपचार दिया गया ।

होली का त्योहार मनाने अपने सगे संबंधियों की ओर दंतेवाड़ा जा रहे इन ग्रामीणों को अंदाज भी नही रहा होगा कि उनकी रंगों की होली खून की होली में बदल जाएगी। इस ब्लास्ट में क्षतिग्रस्त बोलेरो में पेद्दाकोडपाल और कडेर के 9 ग्रामीण सवार थे। ब्लास्ट इतना शक्ति शाली था कि ब्लास्ट वाली जगह पर 5-7 फ़ीट गड्ढा हो गया है। ब्लास्ट में बोलेरो वाहन 8 मीटर से ज्यादा ऊपर उड़कर 10 मीटर दूर जा गिरी है। जिसमे बोलेरो के परकपछे उड़ गए हैं गाड़ी के टुकड़े 50 मीटर दूर तक जा गिरे हैं। ब्लास्ट को 50 मीटर को दूरी से आंखों के सामने नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उडाया है क्योंकि ब्लास्ट में इस्तेमाल वायर 50 मीटर दूर तक अभी भी पड़ी हुई है। सुरक्षाबल के जवान मौके पर पहुंचे है जहां पूरे घटनाक्रम का मुआयना किया जा रहा है। इस ब्लास्ट में माओवादियों ने जिस स्थानीय बोलेरो को उड़ाया है उसमें मासूम बच्चे और एक आदिवासी गर्भवती महिला भी शामिल है जिसकी स्थिति अभी भी नाजुक बनी हुई है।

एक लाल-नीली वायर के साथ इस पूरे ब्लास्ट को अंजाम दिया गया था सड़क किनारे स्थित पेड़ के संकेत के आधार पर इस ब्लास्ट को अंजाम दिया गया होगा क्योंकि इस पेड़ से लगकर वायर करीब 50 मीटर दूर तक थी। ब्लास्ट में घायल ग्रामीण इस ब्लास्ट के दौरान भागते हुए संदिग्ध को देखा लेकिन अंधेरा होने की वजह से पहचान नही पाए। क्षतिग्रस्त बोलेरो वाहन के परखच्चे  करीब 30 मीटर की दूरी तक जा उड़े हैं।

To Top
Open chat