छत्तीसगढ़

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक प्रियंका ने जिला कोरोना कंट्रोल प्लान को किया अपडेट

  • कोरोनिक आपदा से सचेत स्वास्थ्य विभाग के राज्य स्तरीय अमले ने की जिले की फ्यूचर प्लानिंग
  • कोरोना वायरस के मंडराते संक्रमण को देख एनएचएम की एमडी डाॅ प्रियंका शुक्ला सहित राज्य स्तरीय विशेषज्ञों ने जिला स्तरीय वस्तुस्थिति का लिया जायजा
  • जिलाधिकारियों से चर्चा कर आपदा प्रबंधन के लिए भावी योजनाओं का परिष्कृत प्रारूप किया तैयार

सरकारी खबर @ महासमुंद जिले में कोरोना वायरस संक्रमण एवं रोकथाम के लिए स्वास्थ्य महकमा कितना सजग और सतर्क है इस बात का अंदाजा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के उच्च अधिकारियों द्वारा किए गए निरीक्षण के दौरान बेहतरी के लिए अमल में लाए जा रही मूल्यांकन प्रणाली को देख कर लगाया जा सकता है। आज शुक्रवार 24 अप्रैल 2020 को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डाॅ प्रियंका शुक्ला, राज्य कार्यक्रम प्रबंधक श्री उरिया नाग, आयुष ओएसडी डाॅ अभ्युद तिवारी एवं मेकाहारा के डाॅ ओपी सुंदरानी एवं डाॅ रविंद्र पंडा के साथ जिला भ्रमण पर रहीं। उन्होंने जिले के संबंध में अब तक किए गए रोकथाम प्रयासों और उपलब्धियों सहित उपलब्ध संसाधनों का बारीकी से आंकलन कर अद्यतन जानकारी एकत्र की, साथ ही कलेक्टर श्री सुनील कुमार जैन और मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ रवि मित्तल से मुलाकात कर आगामी रूपरेखा और योजना क्रियान्वयन के संशोधित प्रारूप के संबंध में अवगत कराया।

इस दौरान अमले ने सर्वप्रथम मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ एसपी वारे से कोरोना कंट्रोल यूनिट में उपलब्ध मानव संसाधनों की जानकारी ली, फिर जिला चिकित्सालय के ओपीडी-आईपीडी, ऑपरेशन थियेटर, डायलिसिस, एसएनसीयू एवं शिशु रोग इकाई में प्रदाय की जा रही कोरोना एवं नाॅन कोरोना दोनों तरह की सेवाओं एवं सुविधाओं का गहनतापूर्वक आंकलन किया। चर्चा के दौरान पोषण पुर्नवास केंद्र के संदर्भ में सिविल सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधीक्षक डाॅ आरके परदल ने उन्हें नीति आयोग से मिली सिफारिश के बारे में भी अवगत कराया। इस दौरान डाॅ शुक्ला ने कोरोना की कंट्रोलिंग को बेहतर बनाने के लिए जिला चिकित्सालय परिसर में अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त एक अतिरिक्त वृहद कक्ष का निर्माण करने का सुझाव भी दिया। साथ ही केंद्र एवं राज्य स्तर से मिले निर्देशों के अनुसार आगामी कार्ययोजना भी तैयार की गई। बढ़ते क्रम में उन्होंने मरीजों से पूछ-परख करते हुए परोसे जा रहे भोजन की जांच की।

आंकलन के दौरान कपड़ा धुलाई घर में एक्जास्ट फैन लगवाने और आरओ की सुविधाओं को दुरुस्त करने के लिए भी कहा गया। इस दौरान श्री संदीप ताम्रकार जिला कार्यक्रम प्रबंधक को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के प्राप्त राशि को प्राथमिकता के आधार पर दिशा-निर्देश अनुसार उपयोग करने एवं हस्तान्तरित करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर कोरोना नियंत्रण कक्ष के जिला नोडल अधिकारी डाॅ आई नागेश्वर राव, कोरोना वायरस संक्रमण एवं रोकथाम दल के नोडल अधिकारी डाॅ अनिरुद्ध कसार, एकीकृत रोक निगरानी कार्यक्रम के नोडल अफसर डाॅ छत्रपाल चंद्राकर, चिकित्सा विशेषज्ञ डाॅ सुरभि जैन, डाॅ हेमेश्वरी वर्मा एवं डाॅ कुलवंत आजमानी सहित राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री संदीप ताम्रकार, अस्पताल सलाहकार डाॅ निखिल गोस्वामी एवं अन्य विभागीय अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थें।

कोविड अस्पताल में डाॅनिंग और डाॅफिंग की होगी पृथक व्यवस्था
जिले में कोविड अस्पताल के रूप में चिन्हांकित किए गए आरएलसी अस्पताल में बिजली, पानी और रसोई संबंधी मूलभूत सेवाओं सहित वार्डो में उपलब्घ वैंटिलेटर्स और आइसोलेशन की अनिवार्य व्यवस्थाओं का मूल्यांकन किया गया। अनुभवी निरीक्षण अमले के साथ मश्वरा कर डाॅ शुक्ला ने यहां, विशेष तौर पर प्रवेश एवं निकासी के दौरान डाॅनिंग एवं डाॅफिंग के लिए पृथक रूप से व्यवस्था बनाने के निर्देश दिए। इसमें संक्रमण रोकथाम के लिए हाइजेनिक पीपी किट पहनावे एवं वस्त्र बदलने की सुविधा सहित स्नान इत्यादि के लिए भी आवश्यक प्रबंध होंगे।
क्रमांक/107/107/एस शुक्ल/हेमनाथ

To Top
Open chat