सोशल

बस्तर में पर्यावरण बचाने वृक्षारोपण कर रहे सेवानिवृत्त शिक्षक और शहर के युवा

खबरी चिड़िया @ दंतेवाड़ा आदिवासी जल जंगल जमीन बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन बस्तर में आदिवासियों के जंगलों पहाड़ों नदियों को बचाने में शामिल होता शहरी तबका दिखता तो नहीं है।

लेकिन प्रधानाध्यापक से स्वैच्छिक सेवानिवृत्त हुए जय नारायण सिंह बस्तरिया ने इसके लिए पहल की है। जिसके तहत आज 14 जुलाई 2019 को दंतेवाड़ा के भैरमबाबा मंदिर से लगे तालाब के चारों ओर पौधे लगाने का काम आज बिना किसी सरकारी आयोजन के किया गया। जिसमें शहर के युवा, कर्मचारी व्यवसायी और पत्रकार सहयोग कर रहे हैं। सरकारी आयोजनों की खानापूर्ति के बीच इस प्रकार के कार्य युवाओं में नई चेतना जागृत करते हैं। शहर के युवा आने वाले दिनों में पर्यावरण बचाने में अपना सहयोग देने ऐसे कार्य करते रहने का मन बना चुके हैं।

युवाओं ने शहर के नागरिकों से अपील की है कि दंतेवाड़ा और शहर के जो नागरिक अपने पूर्वजों की याद में पौधे लगाना चाहते हैं; उनका स्वागत है। वे अगले वृक्षारोपण के दौर अगस्त महीने में अपना सहयोग दे सकते हैं।

वृक्षारोपण में सहयोग देने जय नारायण सिंह बस्तरिया के साथ शिव प्रसाद भास्कर, दीपक अग्रवाल, प्रेम कुमार, दीपक ठाकुर, मनोज कश्यप, शिव लाल नाग, हरेंद्र कुमार नाग, विनोद कुमार ठाकुर, परमेश्वर बघेल, एम. श्रीनाथ, जंगम पवन, दुर्गा ठाकुर, कोहिमा ठाकुर, शशिबाला नेगी, आशिष सिंह चौहान, अनिल कुमार चंद, मनोज मिश्रा, शेख अख्तियार और प्रभात सिंह ने जन सहयोग दिया।

Most Popular

To Top
Open chat