सोशल

कार्पोरेट घराने से जमीन वापस मिलने की खुशी

डीपीआर छत्तीसगढ़ @ रायपुर. यह हँसती हुई तस्वीर है जगदलपुर जिले के ग्राम धुरागांव के आदिवासी किसान मासो की , जो अपनी ज़मीन को ही सब कुछ मानते हैं ! इस हँसती हुई फ़ोटो का कारण है की, वर्षों से जमीन छिन जाने के डर का सामना करते हुए अपनी जमीन पर खेती कर रहे मासो का डर अब खत्म हो गया है। मासो को अपनी जमीन के कागजात वापिस मिल गए हैं।

टाटा स्टील प्लांट के लिए लोहण्डीगुडा तहसील के जिन 1707 किसानों की 1704 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहीत की गई थी, उनमें धुरागांव के श्री मासो की 10 एकड़ जमीन भी शामिल थी। श्री मासो ने बताया कि जमीन जाने का दुख हर किसान को होता है। मेरे लिए तो मेरी जमीन मां समान है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने हमारी जमीन वापस कर दी। अब ऐसा लगता है, जैसे मुझे मेरी मां मिल गई है। अब मैं पूरे मन से खेती करूंगा।

Most Popular

To Top
Open chat