बस्तर

तोंगगगुड़ा हमले में शहीद अरविंद मिंज को दी गयी अंतिम विदाई

शनिवार को बीजापुर जिले में हुए नक्सली हमले में शहीद जशपुर जिले के खारीझरिया गांव के शहीद अरविंद मिंज के पिता सेभरेन मिंज गाँव खारीझरिया के कोटवार हैं ।उन्होंने बताया कि अरविंद उनके घर का सबसे बड़ा लड़का है । 2010 में जब उन्हें उनके पूलिस में नौकरी लगने की खबर सुनी थी तो पूरा परिवार खुशी से झूम उठा था।

गरीबी और अभाव से जूझ रहे इस परिवार को ऐसा लगा मानो अब उनके बुरे दिन लद गए ।हुआ भी ऐसा अरविंद की नौकरी लगने के कुछ दिन बाद उनके छोटे बेटे की भी नौकरी बीएसएफ में लग गयी । परिवार के दिन बहूर गए और सारा कुछ अच्छा हो गया लेकिन जब उन्होंने अरविंद की मौत की खबर सुनी तो ऐसा लगा जैसे वर्षो पहले से तैयार किया गया सपनो का घरौंदा एकबारगी धराशाही हो गया ।

इसे भी पढ़े – बीजापुर जिले के तोंगगुड़ा में नक्सली हमला दो जवान शहीद एक ग्रामीण घायल


तिरंगे से लपेटा शहीद का पार्थिव शरीर जैसे ही घर के प्रांगण मे लाकर रखा गया। उसे सम्मान देते हुए कलेक्टर नीलेश क्षीरसागर महादेव,एस पी शंकरलाल बघेल ने पुष्पचक्र अर्पित करते हुए श्रद्धांजलि दिया।वहीं अंतिम विदाई में उपस्थित पुलिस बल के जवानों ने शहीद को सशस्त्र सलामी दी । इसके बाद कांग्रेस के जिलाध्यक्ष पवन अग्रवाल,बीजेपी प्रत्याशी व जिला पंचायत अध्यक्षा गोमती साय ने भी शहीद को श्रद्धांजलि दी।

तोंगगुड़ा हमले में शहीद कुनकुरी के अरविंद मिंज को दी गयी अंतिम विदाई

शहीद को अंतिम विदाई देने के लिए पूरा गांव उमड़ पड़ा। शहीद अरविंद अपने पीछे वृद्ध माँ – पिता और पत्नी सहित दो बच्चों समेत छोटे भाई- बहू को छोड़ गए। वहीं शहीद जवान को श्रद्धांजलि देने आए ग्रामीणों ने केंद्र और राज्य सरकार से अब नक्सलियों के विरुद्ध निर्णायक लड़ाई छेड़ते हुए उनका पूरी तरह से खात्मा करने की मांग की।
शहीद की अंतिम विदाई के समय भाजपा प्रत्यासी एवं जिला पंचायत अध्यक्ष जशपुर गोमती साय भी उपस्थित रहीं।

To Top
Open chat